जय अम्बे गौरी लिरिक्स – Jai Ambe Gauri Lyrics – Durga Ji Ki Aarti, & Free Sargam

SHARE:

यहाँ पर आपको Navratri Aarti, जय अम्बे गौरी लिरिक्स, Durga Ji Ki Aarti – Jai Ambe Gauri Lyrics दिया जा रहा है |

जय अम्बे गौरी लिरिक्स, Jai Ambe Gauri Lyrics
जय अम्बे गौरी लिरिक्स, Jai Ambe Gauri Lyrics, Durga Ji Ki Aarti

Durga Ji Ki Aarti – Jai Ambe Gauri Lyrics | जय अम्बे गौरी लिरिक्स

जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी
तुमको निशिदिन ध्यावत हरि ब्रह्मा शिवरी ||जय अम्बे गौरी ||
जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी
तुमको निशिदिन ध्यावत हरि ब्रह्मा शिवरी ||जय अम्बे गौरी ||
 
मांग सिंदूर बिराजत टीको मृगमद को।
उज्ज्वल से दोउ नैना चंद्रबदन नीको ||जय अम्बे गौरी ||
 
कनक समान कलेवर रक्ताम्बर राजै।
रक्तपुष्प गल माला कंठन पर साजै ||जय अम्बे गौरी ||
केहरि वाहन राजत खड्ग खप्परधारी।
सुर-नर मुनिजन सेवत तिनके दुःखहारी ||जय अम्बे गौरी ||
 
कानन कुण्डल शोभित नासाग्रे मोती।
कोटिक चंद्र दिवाकर राजत समज्योति ||जय अम्बे गौरी ||
शुम्भ निशुम्भ बिडारे महिषासुर घाती।
धूम्र विलोचन नैना निशिदिन मदमाती ||जय अम्बे गौरी ||
 
चौंसठ योगिनि मंगल गावैं नृत्य करत भैरू।
बाजत ताल मृदंगा अरू बाजत डमरू ||जय अम्बे गौरी ||
 
भुजा चार अति शोभित खड्ग खप्परधारी।
मनवांछित फल पावत सेवत नर नारी ||जय अम्बे गौरी ||
कंचन थाल विराजत अगर कपूर बाती।
श्री मालकेतु में राजत कोटि रतन ज्योति ||जय अम्बे गौरी ||
श्री अम्बेजी की आरती जो कोई नर गावै।
कहत शिवानंद स्वामी सुख-सम्पत्ति पावै ||
 
जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी
तुमको निशिदिन ध्यावत हरि ब्रह्मा शिवरी ||

Jai Ambe Gauri Aarti Sargam Notation

जय अम्बे गौरी लिरिक्स, Jai Ambe Gauri Lyrics
जय अम्बे गौरी लिरिक्स, Jai Ambe Gauri Lyrics, Durga Ji Ki Aarti

  • माता जी की यह आरती विश्व प्रसिद्ध आरतियों में से एक है | किसी भी शुभ कार्यक्रम में आदि अनेको अनुष्ठानो, पूजन समारोह एवं अनुष्ठान गाया जाता है |जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी लिरिक्स, Jai Ambe Gauri Lyrics


यहाँ Jai Ambe Gauri aarti Lyrics And Sargam Notes दिया गया है एवं इसमें लगने वाले स्वर –

  • इस आरती में सभी शुद्ध स्वरों का प्रयोग किया गया है | शुद्ध स्वरों के थाट को बिलावल थाट एवं इसके राग को राग बिलावल कहा जाता है तो –
    राग बिलावल की बंदिश नोटेशन के साथ एवं इसका स्वर विस्तार तथा आलाप और तान के लिए नीचे क्लिक करें –

सा   सा-  सासा  सा.निसारे
ओम जय  अम्बे   गौsरीs
रेग   म-  पप  धपमगरे
मैया  जय मंगल मूरsतीs

रेगरे   गममग  रेगरेसा
तुमको निशिदिन ध्यावत
सासा रे-गरे सा.नि.ध-
हरि ब्रह्मा  शिव री

सा   सा-  सासा  सा.निसारे
ओम जय  अम्बे   गौsरीs

रे-सा .निरे-सा .निरेसासा-
मांग  सिंदूsर  बिराsजत
पप   ममग रेसारे-
टीको मृगमद कोss

रेगरेग  गम  मग  रेगरेसा
उज्ज्वल सेs   दोउ  नैsनाs
सा-रेरेगरे  सा.नि.ध
चंद्रबदsन  नीsको 

सा   सा-  सासा  सा.निसारे
ओम जय  अम्बे   गौsरीs
रे-सा  .निरे-सा .निरेसासा-
कनक  समान  कलेsवरs

पपममग रेसारे-
रक्ताम्बर राजै।
रेगरेगगम  मग  रेगरेसा
रक्तपुष्प   गल  माsलाs

सा-रेरे गरे  सा.नि.ध
कंठन पर   साsजै

सा   सा-  सासा  सा.निसारे
ओम जय  अम्बे   गौsरीs

रे-सा .निरे-सा .निरेसासा-
केहरि वाहन   राsजतs
पपम  मग   रेसारे-
खड्ग खप्पर  धाsरीs

रेग   रेग गममग   रेगरेसा
सुर   नर मुनिजन  सेsवत
सा-रेरे  गरेसा.नि.ध
तिनके  दुःखहारी

सा   सा-  सासा  सा.निसारे
ओम जय  अम्बे   गौsरीs

रे-सा  .निरे-सा .निरेसासा-
कानन कुण्डल  शोsभितs
पपममग   रेसारे-
नाsसाग्रे   मोsतीs

रेगरेग   गम मगरेगरेसा
कोsटिक चंद्र  दिवाsकरs
सा-रेरे गरेसा.नि.ध
राजत समज्योति

सा   सा-  सासा  सा.निसारे
ओम जय  अम्बे   गौsरीs

रे-सा  .निरे-सा .निरेसासा-
शुम्भ  निशुम्भ बिडाsरेs
पपममग   रेसारे-
महिषासुर  घाsतीs

रेगरे गगममग रेगरेसा
धूम्र विलोचन  नैsनाs
सा-रेरेगरे  सा.नि.ध
निशिदिन मदमाती

सा   सा-  सासा  सा.निसारे
ओम जय  अम्बे   गौsरीs

रे-सा  .निरे-सा .निरेसासा-
चौंसठ योगिनि  गाssवैंs
पपम  मग रेसारे-
नृत्य करत भैsरूs

रेगरेग गममग रेगरेसा
बाजत ताssल मृदंगाs

सा-   रेरेगरे  सा.नि.ध
अरू  बाsजत  डमरूs

सा   सा-  सासा  सा.निसारे
ओम जय  अम्बे   गौsरीs

रे-सा  .निरे-सा  .निरेसासा-
भुजा  चारअति  शोssभित
पपम  मगरे  सारे-
खड्ग खप्पर धाsरी

रेग  रेगगम मग रेगरेसा
मन वांछित  फल पावत
सा-रेरे  गरे  सा.नि.ध
सेवत  नर   नाsरी

सा   सा-  सासा  सा.निसारे
ओम जय  अम्बे   गौsरीs

रे-सा  .निरे-सा  .निरेसासा-
कंचन  थाssल  विराजत
पपम  मगरे  सारे-
अगर कपूर  बाsती

रेग  रेगगम   मग  रेगरेसा
श्रीs  मालकेतु  मेंs   राsजत
सा-रे   रेगरे   सा.नि.ध
कोsटि  रतन   ज्योति

सा   सा-  सासा  सा.निसारे
ओम जय  अम्बे   गौsरीs

रे-  सा.निरे- सा  .निरेसासा-
श्रीs अम्बेजी की   आssरती
पप  मम  गरे  सारे-

जोs कोई  नर  गाsवै
रेगरेग गममग रेगरेसा
कहत शिवानंद स्वाsमी
सा-   रेरेगरे   सा.नि.ध
सुख  सम्पत्ति पाsवै

सा   सा-  सासा  सा.निसारे
ओम जय  अम्बे   गौsरीs ||


SHARE:

3 thoughts on “जय अम्बे गौरी लिरिक्स – Jai Ambe Gauri Lyrics – Durga Ji Ki Aarti, & Free Sargam”

Leave a Comment