Ambe Tu Hai Jagdambe Kali Lyrics अम्बे तू है जगदम्बे आरती लिरिक्स

SHARE:

यहाँ अम्बे तू है जगदम्बे आरती लिरिक्स , Ambe tu hai jagdambe kali lyrics, अम्बे तू है जगदम्बे काली दिया जा रहा है और आशा करता हू कि यह माता जी की आरती लिरिक्स, ambe tu hai jagdambe kali lyrics, आपको बहुत पसंद आएगा |

अम्बे तू है जगदम्बे आरती लिरिक्स | Ambe tu hai jagdambe kali lyrics

अम्बे तू है जगदम्बे आरती लिरिक्स , Ambe tu hai jagdambe kali lyrics
अम्बे तू है जगदम्बे आरती लिरिक्स , Ambe tu hai jagdambe kali lyrics

अम्बे तू है जगदम्बे आरती लिरिक्स , Ambe tu hai jagdambe kali lyrics

आरती- माता जी की आरती लिरिक्स, ambe tu hai jagdambe kali lyrics
अम्बे तू है जगदम्बे काली,
जय दुर्गे खप्पर वाली,
तेर ही गुण गावें भारती,
हो मैया हम सब उतारे तेरी आरती ।
 
तेरे भक्त जानो पर मैईया भीड़ पड़ी है भारी,
दानव दल पर टूट पड़ो माँ कर के सिंह सवारी ।
सौ सौ सिंहों से तू बलशाली,
है दस भुजाओं वाली,
दुखियों के दुख को निवारती ।
हो मैया हम सब उतारे तेरी आरती ।
 
माँ-बेटे का है इस जग में बड़ा ही निर्मल नाता,
मैया, बड़ा ही निर्मल नाता
पूत कपूत सुने है पर ना माता सुनी कुमाता ।
सबपे करुणा बरसाने वाली,
अमृत बरसाने वाली,
दुखिओं के दुख को निवारती ।
हो मैया हम सब उतारे तेरी आरती ।

नहीं मांगते धन और दौलत ना चांदी ना सोने,
मैया, ना चांदी न सोने,
हम तो मांगे माँ तेरे मन का एक छोटा सा कोना ।
सब की बिगड़ी बनाने वाली, लाज बचाने वाली,
शतीओं के सत को सवारती ।
ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती ।
जगदम्बे काली,
जय दुर्गे खप्पर वाली,
तेर ही गुण गावें भारती,
हो मैया हम सब उतारे तेरी आरती ।

Ambe tu hai jagdambe kali aarti sargam notes

अम्बे तू है जगदम्बे आरती लिरिक्स , Ambe tu hai jagdambe kali lyrics
अम्बे तू है जगदम्बे आरती लिरिक्स , Ambe tu hai jagdambe kali lyrics
  • किसी भी शुभ कार्यक्रम में, नवरात्री के नावों दिन विशेषकर अष्टमी में आदि अनेको अनुष्ठानो, पूजन समारोह एवं अनुष्ठान आदि में इसको गया जाता है |
  • नोट्स – सभी ध कोमल है इसलिए कोमल के लिए किसी भी चिन्ह का प्रयोग नही किया गया है |

पsध   पधप   ममप    पध

अम्बे   तूs है  जगदम्बे काली,

पध  पsम  मप   पध
जय  दुर्गे  खप्पर  वाली

पधप  म  मप पध   पमम
तेरे   ही  गुण गायें  भारती,

मनिनिss  पध  प
ओ मैया,  हम सब
ममप पध  पधप मम
उतारें तेरी  आss रती

मसांसां  सांरें    सांनि  नि  धप,
तेरेs      भक्त   जनों   पे  माता,
निनि निध  प  मपss
भीर  पड़ी   है  भारीss

निनि निध  प  ममss
भीर  पड़ी   है  भारीss
मसांसांs    सांs    रेंसां
दानव    दल   पर

निनि निध   प
टूट   पडो   माँ,
निनिनि  धप   ममपss
करके    सिंह   सवारी

निनिनि  धप        मममss
करके    सिंह       सवारीss
पsधs     पधप   म  म  पधपध
सौsसौ   सिंहोंs    से  तु   बलशाली,

पधप    ममप    पध
अष्ट    भुजाओं   वाली.

पधप  म  मप  ध   धपsमम
दुष्टों  को  पल  में   संघारती,
पधप    म  मपध   धपsमम
दुखिंयों   के  दुखडें   निवारती

मनि निss     पध    प
ओs  मैयाs     हम    सब
ममप  पध   पधपम
उतारें  तेरी   आsरती

म    सांसां   सांरें  सांनि  निधप,
नहीं   मांगते  धन  और   दौलत,
निनि निध  प  मपss
ना   चाँदी, ना  सोनाss

निनि निध  प  ममs
ना   चाँदी, ना  सोनाs
मसां सांs    सांs    रेंसां
हम  तो   मांगे माँ

निनि ध     प
तेरे  मन    में,
निनि    निs ध  प मपss
इक      छोटा  सा कोनाss

निनि   निsध  प   ममss
इक     छोटा  सा  कोनाss
पsधss   पधप  ममपध  पध
सबकीs   बिगडी  बनाने  वाली,

पधप    ममप  पध
लाज    बचाने  वाली
पधप   म  मप  ध  धपs मम
सतियों  के  सत को   संवारती

मनिनिss    पध  प
ओ मैया,  हम   सब
ममप पध   पधप म म
उतारें तेरी   आss र ती

पsध   पधप   ममप    पध
अम्बे   तूs है  जगदम्बे काली,
पध  पsम  मप   पध
जय  दुर्गे  खप्पर  वाली

पधप  म  मप पध   पमम
तेरे   ही  गुण गायें  भारती,
मनिनिss  पध  प
ओ मैया,  हम सब

ममप पध  पधप मम
उतारें तेरी  आss रती


SHARE:

4 thoughts on “Ambe Tu Hai Jagdambe Kali Lyrics अम्बे तू है जगदम्बे आरती लिरिक्स”

Leave a Comment